शेयर करे

मध्यान भोजन के चावल को लेकर विद्यालय शिक्षा समिति के अध्यक्ष सह वार्ड सदस्य के पति और स्कूल के महिला प्रधानाध्यापिका बीच मार पीट

कोई टिप्पणी नहीं
कटिहार/नीरज झा :--विद्यालय मे मिलने वाली  दोपहर का भोजन भारत सरकार की एक महत्वपूर्ण योजनाओं में से है जो पूरे देश में प्राथमिक और मिडिल स्कूलों मे छात्र छात्रों को निशुल्क भोजन खिलाया जाता है जिससे विद्यालय मे पढ़ने वाले छात्र छात्रों के पोषण स्तर को उन्नत किया जा सके यह योजना 15 अगस्त 1995 को शुरू किया गया लेकिन कटिहार मे मध्यान भोजन के चावल को लेकर  विद्यालय शिक्षा समिति के अध्यक्ष सह वार्ड सदस्य के पति और स्कूल के महिला प्रधानाध्यापिका बीच विवाद इतना बढ़ गया की पहले तू तू में में के वाद लात घुसे से मार पीट की गई ।



बताया जाता है कि नया प्राथमिक विद्यालय दुर्गापुर जहूर टोला की पूर्व स्थानीय शिक्षिका तरन्नुम परवीन से विभागीय आदेश पर वरीय शिक्षिका होने के कारण प्रधानाध्यापिका का कार्य भार रंजना सिन्हा ने ले लिया । पद भार ग्रहण के वाद से ही कटिहार बरारी प्रखंड के दुर्गापुर पंचायत के 5 नंबर के वार्ड सदस्य बीबी जुलेखा के पति मो0 तस्दीक पर परेशान करने का आरोप लगाते हुई पूर्व मे रहे प्रधानाध्यापिका तरन्नुम परवीन के साथ साथ वार्ड सदस्य पति  पर हत्या करने की साजिश रचने के साथ साथ कई संगीन आरोप शिक्षिका रंजना सिन्हा ने लगाये और कहा एमडीएम का चावल नहीं रहने से 15 दिनों से विद्यालय में एमडीएम बंद था शुक्रवार को विद्यालय  बंद रहता है इस दिन विद्यालय में साधन सेवी द्वारा एमडीएम का 2 बोरा चावल दिया गया |

दूसरे दिन वार्ड सदस्य पति दर्जनों लोगों के साथ विद्यालय पहुंचकर सात कुंटल चावल के बदले दो बोरी चावल होने पर हंगामा करने लगे और साथ ही वीडियो बनाने लगा शिक्षिका रंजना सिन्हा द्वारा वीडियो बनाने का विरोध करने पर शिक्षिका रंजना सिन्हा के साथ पहले तूतू मेमे और फिर मार पीट करने लगे विद्यालय छोड़ने शिक्षिका के पुत्र के साथ भी धक्का मुक्की की गई शिक्षिका रंजना सिन्हा ने वार्ड सदस्य पति पर रंगदारी मांगने और धमकी देने साथ साथ अपनी जाति और मजहब के  आधारित बाहुल क्षेत्र होने की धमकी जैसे कई गंभीर आरोप लगाए हैं ।
वही विद्यालय की  शिक्षिका तरन्नुम परवीन ने प्रधानध्यापिका के काले कारनामे का कई राज खोला और बताया की प्रधानाध्यापिका उपस्थित छात्र छात्रों से अधिक की उपस्थिति बनाई जाती हैं क्लास के शिक्षकों को बच्चों की उपस्थिति नहीं बनाने ने दी जाती है
वही विद्यालय शिक्षा समिति  के अध्यक्ष सह वार्ड सदस्य के पति मो० तस्दीक ने कहा कि एक साल से प्रभार में है शिक्षिका रंजना सिन्हा हमारे पास आता है साइन करवाने के लिए एक साल मै क्या क्या हुवा है उसका हिसाब दिखाये तब हम साइन करेंगे बिना देखे कैसे साइन कर देंगे रंगदारी का हम पर झूठा आरोप लगा जारहा है पैसा माँगा जा रहा है यह भी झूठ है  । मेरी बेटी पढ़ती है विद्यालय मे हम ग्रामीण है मेरी पत्नी वार्ड मेम्बर है सूचना मिली थी कि गुरुवार को सात कुंटल चावल आने वाला है हमारे यहाँ शुक्रवार को छुट्टी रहता है छुट्टी के दिन चोरी छिपे दो बोरा चावल विद्यालय लाया गया था शनिवार को सुबह स्कूल खुलने से पहले से  बैठे थे सभी जब स्कूल खुला हम देख के वीडियो किये दो बोरा चावल ही था जब शिक्षिका से इस मामले में जब पूछे कितना बोरा चावल आया है हम को नही बताया और बोला आप ऊपर से पता कर लीजये कितना चावल आया है इसी बात पर विवाद होने लगा रसोईया सहना से पूछताछ करने लगे कि किसके आदेश पर चावल विद्यालय में रखा गया है इस पर शिक्षिका ने मेरा मोबाइल छीन लिया और इसी पर हाथा पाई होने लगा कौन किसको मारा हमको नही मालूम हम झगड़ा छोड़ा रहे थे वीडियो में आरहा है की मैडम को हम मार पीट कर रहे है पर झगड़ा छोड़ा रहे थे ।
समाज में  शिक्षकों का अपना अलग एक महत्व रहा है लेकिन जिस समाज में महिला शिक्षिका को मासूम नौनिहालों के सामने पहले धक्का-मुक्की और पीटा जाता हो और समाज के लोग मूकदर्शक बन कर देखते रहे ऐसे समाज को क्या कहा जाय जरा सोचिएगा हमारा समाज कहा जा रहा है ।


©www.katiharmirror.com

कोई टिप्पणी नहीं

शेयर करे

Popular Posts

Featured Post

लॉकडाउन में दिखी अनियमितता

कटिहार/नीरज झा:--कटिहार मे डायन बनी कोरोना को लेकर पूरी तरह लॉक डाउन लागू है । कटिहार प्रसासन लगातार लोगो को अपने घरों मे रहने की अपील भी क...

Blog Archive