शेयर करे

12 साल वाद बैंक ने चुकता लोन के पैसे के लिए फिर से लोक अदालत के माध्यम से नोटिस

कोई टिप्पणी नहीं
कटिहार/समेली/नरेश चौधरी:---अगर आप बैंक से खेती या किसी रोजगार के लिए किसी बैंक से कर्ज लिया है और बैंक का कर्ज चुका भी दिया है और इसके कागजात संभालकर नहीं रखा तो होशियार हो जाये मोदी सरकार मे बैंक कर्मियों की मनमानी के शिकार आपहो सकते है और आपकी गाड़ी कमाई पर बैंक डाका डाल सकती है ।




2007 मे समेली  स्टेट बैंक शाखा से लोन के पैसे देने के वाद नो डियूज भी ले लिया गया लेकिन 12 साल वाद बैंक ने लोन के पैसे के लिए फिर से लोक अदालत के माध्यम से लोन वसूली करने को लेकर नोटिस भेज देने का सनसनी खेज मामला सामने आया है ।
कटिहार के समेली बाजार के स्टेट बैंक के मैनेजर संजय कुमार झा अपने मनमाने ढंग से पूर्व के बैंक के ग्राहक के साथ साथ दर्जनों ऐसे लोगों को नोटिश भेज दिया है जिन्होंने कृषि कार्य के लिए   बैंक से कभी लोन लिया था और समय रहते ब्याज सहित रिटर्न भी कर दिया था ।  पीड़ित अशोक चौधरी ने बताया कि 1999 में केला की खेती को लेकर बैंक से 15000 का लोन लिया था और 14 सितंबर 2007 को ही बैंक का पैसा सूद समेत चुका दिया साथ ही बैंक के खाते को भी बंद करा दिया गया अब 12 साल बीत जाने के बाद 14सितंबर 2019 को फिर से अशोक कुमार चौधरी को दोबारा नोटिस भेज दिया गया । अशोक कुमार चौधरी ने आगे कहा नोटिस मिलते ही उसके पैर तले जमीन खिसक गई और अशोक कुमार समेली बाजार स्थित स्टेट बैंक के मैनेजर से जब पूछा गया कि इस लोन का पैसा 12 साल पूर्व जमा कर दिया गया नोड्यूज सर्टिफिकेट मेरे पास था जो अभी नही मिल रहा है स्टेट बैंक के मैनेजर संजय कुमार का कहना हुआ पैसा आपको जमा करना होगा जबकि मैनेजर साहब ना तो अपना खाता बही चेक कीये  और सुना दिए तालिवानी फरमान ।


कटिहार के समेली स्टेट बैंक के ब्रांच मैनेजर की मनमानी इतना ही नही है समेली बैंक के बगल में रहने वाले जयप्रकाश मंडल1995 में 25000 रुपया लोन के तौर पर लिया था 16जून 2017 को ऋण की राशि बैंक को देकर  बैंक के ऋण से मुक्त हो गए लेकिन 3 साल बाद जयप्रकाश कुमार मंडल को भी 25000 का नोटिस बैंक के द्वारा भेज दिया गया । जयप्रकाश मंडल कहते हैं लोन का पैसा बैंक को जमा कर दिए नो ड्यूज सर्टिफिकेट मेरे पास आ गया लेकिन फिर से ₹25000 का नोटिस बैंक भेजा दिया गया इसके मामले में स्टेट बैंक के समेली ब्रांच मैनेजर संजय कुमार से पूछा गया तो ब्रांच मैनेजर का कहना हुआ अगर आप लोगों का नो ड्यू सर्टिफिकेट नहीं मिल रहा है तो आपका लोन ₹25000 रुपया लिए हैं उसको जमा करना ही होगा अब यह बेचारे किसान जाए तो जाए कहां इन दोनों किसानों के पास नोडयूज सर्टिफिकेट घर में नहीं मिलने के कारण बैंक भी अपना दावा ठोक रही है और पैसे देने की बात कह रही है

©www.katiharmirror.com

कोई टिप्पणी नहीं

शेयर करे

Popular Posts

Featured Post

लॉकडाउन में दिखी अनियमितता

कटिहार/नीरज झा:--कटिहार मे डायन बनी कोरोना को लेकर पूरी तरह लॉक डाउन लागू है । कटिहार प्रसासन लगातार लोगो को अपने घरों मे रहने की अपील भी क...

Blog Archive