शेयर करे

हल्की बारिश और हवा से मनिहारी गंगा घाट पर बने पंडाल तहस-नहस

कोई टिप्पणी नहीं
कटिहार/नीरज झा --: कटिहार का मनिहारी गँगा घाट श्रद्धा विश्वास का अनूठा केंद्र के रूप मे जाना जाता है यहां सालों भर संपूर्ण सीमांचल के साथ भारत का पड़ोसी देश नेपाल और भूटान से भी बड़ी संख्या में श्रद्धालु यहाँ आते रहते हैं।


 मनिहारी गंगा घाट से पानी वाले जहाज से साहबगंज होकर बड़ी संख्या में शिवभक्त कांवरिया देवघर को रोज जाते हैं लेकिन सुविधा के नाम पर लूट तंत्र बना रहा
। मनिहारी मे कहने के लिए कांवरियों के लिए दो धर्मशाला है कमला पूरी धर्मशाला और मारवाड़ी धर्मशाला । कमलापुरी धर्मशाला काफी जर्जर  स्थिति  में है और आम लोगो के लिए बंद कर दिया गया है । एकलौता मारवाड़ी धर्मशाला मारवाड़ी युवा मंच मनिहारी द्वारा कांवरियों के लिए रहने निशुल्क रहने की व्यवस्था करते है । श्रद्धालुओं के भीड़ को देख कर मनिहारी जिला प्रशासन पिछले हर साल वर्तमान हल्का कचहरी (पुराना नगर पंचायत कार्यालय) मे टेंट लगाकर कांवरियों के ठहरने के लिए उचित व्यवस्था करती रही है जो इस वर्ष नदारत रही ऐसे स्थिति में श्रद्धालु  स्टेशन पर शरण लेते हैं जहां उन्हें असुविधा और परेशानी का सामना करना पड़ता है दूसरी ओर सावन में यहां श्रद्धालुओं की सुरक्षा का भी खास इंतजाम नहीं रहता है मनिहारी बस स्टैंड से घाट को जोड़ने वाले संपर्क पथ की स्थिति भी काफी दयनीय बनी हुई है जहाँ साफ-सफाई का भी घोर अभाव रहता है । कमोबेश  मनिहारी घाट पर कुव्यवस्थाओं का अंदाजा इस बात से लगा सकते हैं हल्की बारिश और हवा से मनिहारी गंगा घाट पर बने पंडाल तहस-नहस हो गया ।

©www.katiharmirror.com

कोई टिप्पणी नहीं

शेयर करे

Popular Posts

Featured Post

गुरूतेग बहादुर जी के 344 वां शहीदी गुरूपर्व को लेकर बरारी के ऐतिहासिक गुरूद्वारा लक्षमीपुर में आयोजित तीन दिवसीय समारोह

बरारी/नरेश चौधरी:- गुरूतेग बहादुर जी के 344 वां शहीदी गुरूपर्व को लेकर बरारी के ऐतिहासिक गुरूद्वारा लक्षमीपुर में आयोजित तीन दिवसीय समारोह ...

Blog Archive