शेयर करे

दाने दाने को तरस रहे विस्थापित

कोई टिप्पणी नहीं
कटिहार/बरारी/नरेश चौधरी :---कटिहार के बरारी प्रखंड के कई पंचायतो में गंगा नदी वर्षो से कोहराम मचा रखा है जिसका परिणाम काढ़ागोला गंगा घाट पर बसे कई गांव प्रत्येक साल गंगा के तेज उफनती लहरों में समा चुके है |गाँव का गाँव कटता गया लोग गांव छोड़कर पलायन करते रहे |कुछ गरीब तबके के लोग जिनका कोई दूसरा ठिकाना नही वो सैकड़ों परिवार अपने बुजुर्ग माता-पिता व छोटे-छोटे बच्चे के साथ रोड किनारे या बांध किनारे झुग्गी झोपड़ी में अपना जीवन बसर कर कर रहे है |


कल तक इनके पास उपजाऊ जमीन घर सब कुछ था |आज खुद दुसरो पर मोहताज है| इस परिवारों को देखने वाला कोई नहीं |भगवान भरोसे कटाव पीड़ित अपने परिवार के साथ किसी तरह जिंदगी गुजारने पर मजबूर है ।गंगा नदी के कोप बने यह परिवार का कहना है एमपी हो या एमएलए वोट मांगते समय बड़े-बड़े दावे कर वोट बटोर ले जाते है लेकिन जीतने के वाद कोई नही आता सुध लेने ,अपने हाल पर छोड़ जाते है ।

दाने दाने को तरस रहे गरीबी की मार झेल रहे इन परिवारों को बरसात के इस मौसम में भारी दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है ऐसे में किसी परिवार में किसी की मौत हो जाती तो उस मृत शरीर को ढकने के लिए कफन तक के लिए पैसे नहीं होते |इन परिवारों को कैसे बांध के नीचे एक छोटी सी आशियाने में बूढ़े मां बाप और बच्चे को लेकर अपना जीवन गुजर-बसर कर रहे और सरकार के उस दावा की पोल खोल रही है जिनमे सभी को पक्का घर बिजली ,राशन मिलेगा ।
इन परिवारों का  अच्छा भोजन बच्चे का पढ़ाई लिखाई पक्के का मकान सिर्फ सुनने के लिए है |यहां तक इनमें से कई ऐसे घर हैं जिनको सरकारी अनाज नहीं मिल रहा| इन परिवारों को किसका श्राप है गंगा मैया का या फिर सरकार का?
छोटे-छोटे बच्चे खाने के समय मकई और  गुंजा खाने पर मजबूर है |पढ़ने के लिए कोई स्कूल नहीं जबकि सरकार गरीब को सहारा देने के लिए कई तरह के योजना चला रही लेकिन इन गरीबों को उसका लाभ नहीं मिल पा रहा |

जब हमारी टीम  काढ़ागोला गंगा घाट के बांध के किनारे बसे इन कटाव पीड़ित से हाल जानने की कोशिश की तो कांत नगर पंचायत के मुखिया ने कहा 2016 में आई भीषण बाढ़ में  बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार कांत नगर पंचायत का दौरा किया और सभी कटाव  पीड़ित  को भरोसा दिया और कहा सभी कटाव पीड़ितों को जमीन मुहैया कराई जाएगी सभी प्रकार के सरकारी लाभ  मिलेगा लेकिन अब तक इन कटाव पीड़ितों को कुछ भी नहीं मिला अभी भी कटाव पीड़ित वैसे ही अपना जीवन गुजारने को  मजबूर है  क्या इन कटाव पीड़ित का आंसू पोछने वाला कोई नहीं क्या इन टूटी झोपड़ी जिसमें एक तरफ छप्पर से पानी चौराहा बच्चे खाने को रो रहे इन बच्चे को किसका श्राप क्या इसी तरह शेर होते रहेंगे बच्चे क्या आप भूखे पेट तड़पते रहेंगे विस्थापित इन का दर्द सुनने वाला कोई नहीं क्या सारा सिस्टम वादे पर ही चलता है क्या इन गरीब को सरकार का कोई सहारा नहीं देखिए इन 15 महीने के बच्चे खाने को किस तरह रो रहे आंख उठाकर अपने माता पिता को खोज रहे लेकिन मां अपने बच्चे को गोद में उठाकर उसे खिलाती है  मकई का  भुंजा अब देखना है इन  विस्थापितों को जिला प्रशासन और बिहार के मुखिया नीतीश कुमार क्या कुछ मुहैया कराती है

©www.katiharmirror.com

कोई टिप्पणी नहीं

शेयर करे

Popular Posts

Featured Post

बरारी पवार सब स्टेशन पर तैनात कर्मचारी पर जान लेवा हमला,बिजली नही देने पर की गई मार पीट ।

कटिहार/बरारी/नरेश चौधरी ;----कटिहार के बरारी थाना के लक्ष्मीपुर पंचायत स्थित पावर सब स्टेशन में देर रात्रि दर्जनों की संख्या में अपने चेहरा...

Blog Archive