शेयर करे

पुर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी की मृत्यु से देश भर में शोक की लहर

पूर्व प्रधान मंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का निधन गुरुवार की शाम ५ बजकर ५ मिनट पर हो गया|उनके निधन पर ७ दिन के राष्ट्रिय शोक की घोषणा की गयी है|


अटल बिहारी वाजपेयी (अंग्रेज़ी: Atal Bihari Vajpeyee), (२५ दिसंबर १९२४ – १६ अगस्त २०१८) भारत के दसवें प्रधानमंत्री थे। वे पहले १६ मई से १ जून १९९६ तक, तथा फिर १९ मार्च १९९८ से २२ मई २००४ तक भारत के प्रधानमंत्री रहे।वाजपेयी हिन्दी कवि, पत्रकार व एक प्रखर वक्ता थे। वे भारतीय जनसंघ के संस्थापकों में एक थे, और १९६८ से १९७३ तक उसके अध्यक्ष भी रहे।



उन्होंने लम्बे समय तक राष्ट्रधर्म, पाञ्चजन्य और वीर अर्जुन आदि राष्ट्रीय भावना से ओत-प्रोत अनेक पत्र-पत्रिकाओं का सम्पादन भी किया। अपना जीवन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रचारक के रूप में आजीवन अविवाहित रहने का संकल्प लेकर प्रारम्भ करने वाले वाजपेयी राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) सरकार के पहले प्रधानमन्त्री थे, जिन्होंने गैर काँग्रेसी प्रधानमन्त्री पद के ५ साल बिना किसी समस्या के पूरे किए। उन्होंने २४ दलों के गठबंधन से सरकार बनाई थी जिसमें ८१ मन्त्री थे। सम्प्रति वे राजनीति से संन्यास ले चुके थे और नई दिल्ली में ६-ए कृष्णामेनन मार्ग स्थित सरकारी आवास में रहते थे ।[2] १६ अगस्त २०१८ को एक लम्बी बीमारी के बाद अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, दिल्ली में श्री वाजपेयी का निधन हो गया। वे जीवन भर भारतीय राजनीति में सक्रिय रहे।



©www.katiharmirror.com
एक टिप्पणी भेजें
शेयर करे

Popular Posts

Featured Post

छठ का दौरा लेकर जा रहे युवक को स्कॉर्पियो ने रौंदा

कटिहार/बरारी/नरेश चौधरी:--कटिहार के बरारी के रेफरल अस्पताल के समीप छठ घाट पर जा रहे छठ का  दौरा लेकर  40 वर्ष वरूण कुमार को अनियंत्रित स्कॉर...

Blog Archive