शेयर करे

Katihar: Mahananda warning level :कटिहार में महानन्दा वर्निंग लेवल के पास . डेंजर लेवल तक बढ़ने की आशंका

*महानंदा में हाई अलर्ट मान विभाग फूल प्रूफ तैयारी की दावे कर रही,वार्निंग लेवल से चंद फर्लांग पर,डेंजर लेवल की तरफ बढ़ रही महानंदा*

*कटिहार/आजमनगर*


*नेपाल की तराई सहित दर्जिलिंग के विभिन्न हिस्सों में बीते कई दिनों से हो रही भीषण जल प्रपात के कारण किशनगंज के करीब महानंदा नदी अपना रौद्र रूप धारण कर चुकी है.जहाँ पानी का जलस्तर डेंजर लेवल को पार करते हुए कटिहार जिले से होकर बहने वाली महानंदा नदी की तरफ तेज रफ्तार से बढ़ रही है.तेज रफ्तार को देखते हुए विभागीय स्तर पर संभावित हाई अलर्ट मानते हुए एसडीओ से लेकर जेई सहित होमगार्ड के जवानों को चौकसी के साथ शक्रिय रहने को कहा गया है.विभागीय सूत्रों के मुताबिक महानंदा नदी का जलस्तर किशनगंज जिले के विभिन्न आक्रामक बिंदुओं पर डेंजर लेवल को पार कर गई है.ऐसे में पूरी संभावना अंदरूनी तौर पर जताई जा रही कि नेपाल सहित दार्जिलिंग हिस्सों में जिस तरह लगातार जलप्रपात हो रही है.ऐसी स्थिति में कटिहार जिले से होकर बह रही महानंदा नदी में अगले72घंटों में जल स्तर वार्निंग को पार कर डेंजर लेवल की तरफ बढ़ेगा इसी संभावनाओं को भांपते हुए विभाग विभिन्न चौकसी बरत रही है. सालमारी डिवीजन अंतर्गत सभी आक्रामक बिंदुओं से लेकर विभिन्न नदी तल से ऊपरी हिस्से पर संघर्षत्मक कार्य के लिए मुकम्मल और पर्याप्त संसाधनों का उपलब्ध रहना सालमारी डिवीजन के जिम्मेदार अधिकारी बता रहे हैं.ऐसे में देखने वाली बात यह होगी कि विभाग के पर्याप्त दावे महानंदा के रौद्ररूप के आगे कितना संघर्ष कर पाती है.विभाग भी इसका दावा खुल कर नहीं कर रही है.गौरतलब हो कि बाढ़ नियंत्रण प्रमंडल सालमारी अंतर्गत बहरखाल स्थित स्पर संख्या15,आजमनगर रिंग बांध56,बहरखाल स्थित स्पर15के अलावे 44,65,66 पर भी बाढ़ पूर्व एंटीरोजन कार्य करोड़ों रुपये की लागत से कराए गए हैं.बावजूद इसके नदी की तेज रफ्तार के आगे कितना कारगर सिद्ध होगा यह तो वक्त बताएगा जबकि स्थानीय लोगों द्वारा विभागीय अधिकारियों के दावे तथा कराए गए कार्य की गुणवत्ता पर लगातार सवाल खड़े किए जाते रहे हैं.ऐसे में नेपाल की तराई इलाकों में लगातार हो रही बारिश तथा मौसम विभाग द्वारा हाई किये गए अलर्ट की संभावित स्थिति के अनुरूप आजमनगर इलाकों में हो रही वर्षा से महानंदा में खतरा मंडरा सकता है.इससे जोर कर देखा जा रहा है.इससे लोग अभी से हीं भयभीत होना बता रहे हैं.महानंदा में हाई अलर्ट मान विभाग फूल प्रूफ तैयारी के दावे जहाँ कर रही सालमारी डिवीजन में80किलोमीटर बांध पर अधिकारी किस तरह तटबंध पर नजर रखेंगे आक्रामक बिंदुओं पर लाखों लाख रखी गयी बोरी से अपर्याप्त कर्मियों के सहारे विभाग किस तरह संघर्ष करेगी लोग यह सोच कर अभी से हीं भयभीत होने लग गए हैं.*




*पांच प्रखंड होगा प्रभावित:-*

*महानंदा नदी में जिस रफ्तार से जलस्तर में वृद्धि हो रही ऐसी स्थिति में कदवा,आजमनगर,डंडखोड़ा,प्राणपुर, मनिहारी प्रखंड के कई पंचायत में महानंदा नदी का पानी प्रवेश कर जाएगा.जहाँ संभावित तौर पर भारी तबाही से इनकार नहीं किया जा सकता है.लोग ऐसे कयास इस लिए लगा रहे कि बाढ़ नियंत्रण प्रमण्डल सालमारी अंतर्गत कदवा प्रखंड के शिवगंज स्थित बीते वर्ष2017में14अगस्त को तटबंध कट गया था. जिसे बाढ़ पूर्व स्थानीय विरोध के कारण मरम्मत नहीं किया जा सका जहाँ से वर्णित प्रखंडों के विभिन्न पंचायतों में पानी प्रवेश होगा.इसके लिए विभाग के पास कोई मुकम्मल व्यवस्था नहीं यहाँ तमाम आधिकारिक दावे फेल नजर आ रहे हैं यह सवाल नहीं बड़ा सवाल है.इसके लिए जिम्मेवार किसे माना जाए मानवजनित या आधिकारिक बेरुखी मानी जाए बहरहाल लोगों ने महानंदा की तेज रफ्तार से लड़ना खुद में अपनी नियति मान ली है.जो वंश दर वंश चलती रहेगी.*




*रोज दर्ज किए जा रहे जल स्तर:-*

*बाढ़ नियंत्रण प्रमंडल सालमारी अंतर्गत महानंदा बेसिन में जलस्तर में बढोत्तरी दिन प्रति दिन दर्ज की जा रही है.सूत्रों के मुताबिक विभाग द्वारा15जून से जलस्तर में बढोत्तरी दर्ज करनी शुरू की गई है.तीन जून को विभाग झौआ में डेंजर लेवल31.40की अपेक्षा सुबह30.06दर्ज किया गया है.जब कि यहाँ वार्निंग लेवल30.80है.बहरखाल सुबह 29.90दर्ज किया गया है.जब कि यहाँ डीएल31.09 है.जब कि डब्लूएल 30.48है.आजमनगर सुबह 29.26दर्ज किया गया जब कि यहाँ डब्लूएल 29.26वहीं यहाँ डब्लूएल29.87है.धबौल सुबह28.37दर्ज किया गया है.जब कि यहाँ डब्लूएल28.65 तो डीएल29.26है.इस तरह सुबह दोपहर शाम तीन चरणों में जलस्तर दर्ज किए जा रहे हैं.*


*इस नंबर पर फोन कर जानकारी ले सकते हैं:-*

*विभाग द्वारा घटते बढ़ते जलस्तर को देखते हुए आम लोगों के लिए एक नंबर सार्वजनिक किया है.विभागीय अधिकारी बता रहे हैं.कि उक्त नंबर06451 228232 पर फोन कर बाढ़ की वर्तमान स्थिति की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं.*



* कहते हैं ग्रामीण:-*

*ग्रामीण मो.सैयाद आलम उर्फ़ पिंकू ने कहा कि वर्ष2017के14अगस्त की आहट महानंदा नदी की सनसनाहट से आनी शुरू हो गयी है.तटबंध पर अधिकारी शक्रिय नजर नहीं आ रहे हैं.एंटीरोजन कार्य में बालू की जगह मिट्टी और मिट्टी की जगह बालू का उपयोग किया गया जो पानी की तेज रफ्तार को सहन नहीं कर पायेगा ऐसी स्थिति में14अगस्त की आहट महसूस की जाने लगी है.लोग भयभीत हीं नहीं होने लग गए बल्कि अभी से हीं सुरक्षित ठिकानों की तलाश में यहाँ वहाँ भटक रहे हैं.विभिन्न आक्रामक बिंदुओं पर विभाग के पर्याप्त संसाधनों के दावे खोखले हैं.जो14अगस्त की याद को तरो ताजा करती है।*


*मो.जियाउद्दीन ने कहा कि विभाग अगर पर्याप्त संसाधनों के दावे करती है.तो जनता को दिख नहीं रहा है.14अगस्त की तबाही को ध्यान में रखते हुए विभाग जो शिथिलता दिखा रही कहीं से सहनीय नहीं है.कई बिंदुओं पर महसूस किया जा रहा कि धंस रहा जिसे देखने के लिए विभाग के एक जेई तक नजर नहीं आते आखिर सुरक्षा देख रेख की जिम्मेवारी किनके सहारे है.पर्याप्त मात्रा में बालू भरी बोरी नजर नहीं आ रहा जो विभाग के दावे को तार तार करती है.*


*कहते हैं कार्यपालक अभियंता:-*

*बाढ़ नियंत्रण प्रमंडल सालमारी के कार्यपालक अभियंता सच्चिदानंद साह ने कटिहार मिरर को बताया कि महानंदा नदी उनके डिवीजन में वार्निंग लेवल से नीचे बह रही लेकिन बढना जारी है.किशनगंज इलाके में महानंदा नदी का जलस्तर विभिन्न जगहों पर डेंजर लेवल को पार कर   कटिहार जिले की तरफ बढ़ रही ऐसे में संभावित तौर पर खुद में अलर्ट मानते हुए सभी शक्रिय हैं.क्यों कि महानंदा यहाँ नीचले सिरे पर है.जलस्तर पिछले72घंटों के अंतराल में डेंजर लेवल की तरफ बढ़ेगा.लेकिन चिंता की कोई बात नहीं पानी से संघर्ष को लेकर संसाधन अपर्याप्त नहीं हैं.लाखों लाख बालू भरी बोरी रखी गयी है.*




*तुषार शांडिल्य*
एक टिप्पणी भेजें

Popular Posts

Featured Post

कुर्सेला में ३ बच्चो की माँ की प्रेमी से भीड़ ने कराई रोड पे ही शादी

बिहार के कटिहार में कुर्सेला थाना क्षेत्र के समीप सड़कों पर हाय बोलटेज ड्रामा देखने को मिला  । अपने गोद मे बच्चे लेकर खड़ी महिला कलयुग की प्र...

Blog Archive