शेयर करे

Katihar : Azamnagar Murder Case आजमनगर में गोली मार एक की हत्या,जांच में जुटी पुलिस को नहीं मिला कोई सुराग किसने मारी गोली

कटिहार/आजमनगर :आजमनगर थाना क्षेत्र के काफी पॉश इलाके में स्थित भरत चौक पर बुधवार को एक कमरे में 50वर्षीय फ़रोखा शर्मा उम्र50वर्ष पिता स्वर्गीय महतो शर्मा थाना क्षेत्र के मलिकपुर पंचायत स्थित वार्ड नंबर9निवासी को गोली मार हत्या कर दिए जाने का मामला प्रकाश में आया है||




घटना जिस कमरे घटित हुई उक्त मकान मलिकपुर पंचायत के पूर्व मुखिया कमलचंद्र प्रामाणिक की है|घटना की सूचना पुलिस को काफी देर बाद मिलने के बावजूद दल बल संग भरत चौक घटना स्थल पहुँच मामले की जांच में जुट गई|इस दौरान पुलिस को जनाक्रोश का भी सामना करना पड़ा घटना की सूचना पर आजमनगर थाना प्रभारी शंकर शरण दास, कदवा थाना प्रभारी अजीत प्रसाद सिंह,आबादपुर थाना प्रभारी चितरंजन यादव,सालमारी ओपी प्रभारी कृष्णा नंद प्रसाद सिंह,बलिया बेलौन थाना प्रभारी दिनेश कुमार,सहित भारी संख्या में पुलिस बल घटना स्थल पर पहुँच गए जिनकी मॉनिटरिंग एसडीपीओ बारसोई पंकज कुमार,इंस्पैक्टर अजय कुमार कर रहे थे.जिन्हें आक्रोशि भीड़ का सामना करना पड़ा|




लेकिन भीड़ से कोई एक आदमी भी निकल कर यह कहने को तैयार नहीं कि आखिर फ़रोखा को गोली किसने और क्यों मारी इतना हीं नहीं पूर्व मुखिया के मकान वो पहुँचा कैसे और कौन था|उस मकान में जिसने आखिर गोली मार हत्या कर दी इन तमाम सवालों के जवाब पुलिस को मत्था पच्ची करने के बाद भी हाथ नहीं लगे जब कि घटना के बारे में बताया जा रहा कि बुधवार की सुबह लगभग8से9बजे के बीच की है|जिस व्यक्त दुकानें खुली रहती है|ऐसे में अगर दर्जनों की तादात में रहे दुकानदार व लोग अगर घटना क्रम की वस्तुस्थिति से पुलिस को सब कुछ जानते हुए भी अवगत नहीं कराए तो समाज में इस तरह के घटना की पुनरावृत्ति हो सकती है|





सवाल यह भी कि क्यों हत्या की गई |इससे बड़े सवाल यह कि घटना क्रम को जानते हुए भी लोग की जुबान पर खामोशी के पहरे क्यों पड़े हैं|कहीं गोली मारने वाला व्यक्ति दबंग बाहुबली प्रवृत्ति का तो नहीं ऐसे लोगों को पुलिस सस्पेक्टेड मान कर मामले की जांच कर कर रही है.वहीं शव को कब्जे में लेकर अन्त्य परीक्षण हेतु सदर अस्पताल कटिहार भेज दिया| पुलिस को छानबीन क्रम में पूर्व मुखिया के भरत चौक स्थित मकान से एक मैग्जीन सहित कई जिंदा कारतूस भी मिले हैं|
तो क्या उनके मकान में और भी कोई रह रहा था.जो पुलिसिया जांच का विषय है.






घटना के बाबत मृतक के परिजन की तरफ से पुलिस को ठोश फर्द बयान नहीं मिलने की स्थिति में स्प्ष्ट नहीं हो पाया है.कि गोली किसने और क्यों मारी ऐसे घटना पर स्थानीय जनप्रतिनिधियों ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए हत्यारों के गिरफ्तारी की मांग जल्द नहीं होने की स्थिति में आंदोलन की चेतावनी दी है.समाचार लिखे जाने तक मामला दर्ज नहीं हुआ और न हीं गोली मार हत्या करने वाली शिनाख्त हीं हो पाई है.


कहते हैं डीएसपी:-

बारसोई डीएसपी पंकज कुमार ने कहा कि  घटना क्रम की जांच की जा रही है.पूर्व मुखिया के मकान से मैगजीन सहित कई जिंदा कारतूस बरामद हुए हैं.मुखिया की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है.जल्द हीं गिरफ्तार कर लिए जाएंगे







 पुलिस छावनी में तब्दील रहा भरत चौक,भीड़ के आगे बेबस दिखी पुलिस



आजमनगर थाना क्षेत्र के भरत चौक पर पूर्व मुखिया कमल चंद्र प्रामाणिक के मकान में बुधवार को किसान फ़रोखा शर्मा की गोली मार हत्या कर दिए जाने प्रकरण को लेकर पहुँची विभिन्न थानों की पुलिस आक्रोशित भीड़ के आगे बेबस दिखी शव को पोस्टमार्टम हेतु भेजे जाने के लिए पुलिस को घंटों भीड़ से सामना करना पड़ा तब स्थानीय जनप्रतिनिधियों में अक्षय सिंह,जाकिर हुसैन पूर्व जिप,समाज सेवी सुदर्शन चंद्र पाल व अन्य के हस्तक्षेप के बाद शव को पोस्टमार्टम में भेजा जा सका चर्चा के मुताबिक घटना बुधवार के सुबह लगभग 9बजे घटित हुई और पुलिस को घटना की सूचना लोगों द्वारा लगभग12बजे दी जाती है.





आखिर तीन घंटे तक अगर लोगों ने सूचना नहीं दी तो सबसे बड़ा सवाल उस सर्किल का चौकीदार कहाँ और क्या कर रहा था.क्या उसे उक्त घटना की जानकारी नहीं या थाने को सूचना देना अपनी जिम्मेदारी नहीं समझी मृतक के परिजन इस बात को लेकर एसडीपीओ पंकज कुमार से चौकीदार के निलंबन की मांग पड़ अड़े दिखाई दिए तब आनन फानन में विभिन्न थानों की पुलिस को बुलाया गया काफी संख्या में पुलिस बल भी बुलाये गए स्थिति पर नियंत्रण के लिए लेकिन स्थिति काबू करने में देर शाम हो गया वहीं पुलिस पूर्व मुखिया की गिरफ्तारी को लेकर सघन छापेमारी कर रही मुखिया की गिरफ्तारी के बाद हीं यह फूल प्रूफ हो पायेगा कि उसके मकान में मैग्जीन व जिंदा कारतूस कहाँ से आया और उसके मकान में आखिर वो व्यक्ति कौन था.




जो उसमें रह रहा था.जो घटना के बाद मुखिया के साथ फरार बताया जा रहा है.अब मामले का पूर्ण उद्भेदन पुलिस कितना कर पाती है.यह उनकी काबलियत पर निर्भर करता है.मालूम हो बीते दिनों आजमनगर थाना क्षेत्र के दमाईपुर में किराना दुकान व्यवसायी को गोली मार लूट की घटना का उद्भेदन करते हुए पुलिस ने एक मुख्य आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भी भेजा था.इतनी कार्रवाई के बाद भी ऐसे मानसिकता रखने वाले कथित बाहुबली अगर गोली मार हत्या की घटना को अंजाम देने के बाद भी बेफिक्र रहे और सैकड़ों लोग तमाशबीन बने रह जाते हैं तो इससे बड़ी दुर्भाग्य की बात जनाक्रोश के लिए क्या हो सकती है.




एसडीपीओ पंकज कुमार मृतक के पुत्र से फर्द बयान प्राप्त करने को लेकर घंटों इंतजार में रहे लेकिन देर रात तक उस व्यक्ति के नाम की पुष्टि नहीं हो पाई कि गोली क्यों मारी गयी हद इस बात की है देखने वाले कई होंगे लेकिन किसी के जुबान से उस व्यक्ति का नाम नहीं निकलना बड़ी खामोशी की तरफ इशारा कर रहा मालूम पड़ता है|मुखिया के के मकान से जो भी साक्ष्य पुलिस को हाथ लगे हैं.उसके सहारे पुलिस फरार मुख्य आरोपी तक पहुँचने की हर संभव कोशिश करने की बात कहती नजर आयी |बावजूद इसके लोग यह भी कहते नजर आए कि पुलिस उक्त मामले की तह तक पहुँच क्या मुख्य आरोपी पर कार्रवाई करेगी पुलिस ने आश्वस्त किया कि कानून को हाथ में लेने का अधिकार किसी को नहीं है.




जिन्होंने भी इस घटना को अंजाम दिया वो किसी कीमत पर बख्शे नहीं जाएंगे वहीं मामले पर एसपी विकास कुमार भी नजर रखे हुए हैं|चर्चा यह भी घटना स्थल पर रही कि घटना को अंजाम देकर फरार हुए व्यक्ति को हर कोई बड़ी नजदीक से जनता लेकिन वो क्यों खामोश हैं|अगर यही खामोशी रही तो क्या मामले का उद्भेदन पुलिस के लिए आसान होगा क्या?अगर उद्भेदन नहीं होता है.तो लोगों का जो वर्तमान थाना प्रभारी के शक्रियता और बेहतर पुलिसिंग से विश्वास टूट जाएगा|


Tushar Shandilya
©www.katiharmirror.com

एक टिप्पणी भेजें
शेयर करे

Popular Posts

Featured Post

निम्बू के पेड़ को लेकर पिट पिट कर हत्या

कटिहार/सेमापुर बरारी /नरेश चौधरी :--सेमापुर ओपी क्षेत्र के दुर्गापुर कुशवाहा टोला में देवरानी आरती देबि की मौत पर चीख पुकार मची है बताया जात...

Blog Archive