आंदोलनकारियों को अविलंब रिहा किया जाय: इंजीनियर शाह फ़ैसल

महानंदा एवं गंगा के विस्थापितों के लिए संघर्ष कर रहे विक्टर झा एवं डॉo एम आर हक़ सहित आंदोलनकारियों पर प्रशासन द्वारा बर्बरतापूर्ण लाठीचार्ज का समाजसेवियों एवं बारसोई अनुमंडल वासियों ने कड़ा विरोध किया है।

शिक्षाविद एवं समाजसेवी इंजीनियर शाह फ़ैसल ने कहा कि बहुत ही शर्मनाक एवं निन्दनीय। उन्होंने कहा कि ग़रीबों, महिलाओं पर इस तरह लाठीचार्ज आज़ाद भारत में साइमन कमीशन और अंग्रेजों की याद दिला दी। यह दिन कटिहार ज़िला के लिए काला दिवस कहलायेगा। हिरासत में लेने का यह तरीका सही नही है। कटिहार की घटना बहुत ही शर्मनाक है।इसकी जितनी भी निंदा की जाए कम है। लाठी और गोली का भय दिखाकर गरीबों बेसहारों के हक की आवाज को दबाया जा रहा है।
यह है हमारे भ्रष्ट पुलिस प्रशासन की शक्ति जो निहत्थे पर वार करती है हक मांगने पर लाठी मिलता है क्या यही प्रशासन है हमारे प्रदेश का प्रशासन तंत्र पूरी तरह से बर्बाद हो चुका है, जिसका उदाहरण यह है।
डॉo एम आर हक़ एवं विक्टर झा से मिलने के बाद श्री फ़ैसल ने कहा कि प्रजातांत्रिक तरीके से किये गए आन्दोलन को दबाने की कोशिश हो रही है, उन्होंने कहा कि बिना शर्त विक्टर झा, डॉo एम आर हक़ एवं बाकी तीन आंदोलन कारियों को अविलंब रिहा किया जाय एवं मनिहारी, कदवा, अज़मनागर, प्राणपुर, अमदाबाद, बरारी आदि प्रखंड के विस्थापितों को भूमि मुहैया कराया जाय, नहीं तो यह जन आंदोलन का रूप लेगा।

kumar Neeraj


©www.katiharmirror.com
एक टिप्पणी भेजें

Featured Post

सरकारी डोंगल की कहानी- पास्पोर्ट की ज़ुबानी

कटिहार:|कुमार नीरज: अगर आप विदेश दौरा करने को सोच रहे है तो होशियार हो जाइये  | सरकार लाख दावा करले डिजिटल इंडिया साइनिंग इंडिया की लेक...