katihar News किसने नज़र लगाईं है कटिहार को ?

कटिहार में अशांति किसने फैलाई ?
कटिहार : दो दिन तक जलता रहा एक ऐसा शहर जहाँ के लोगो की एकता की मिसाले दी जाती रही है |क्या हो गया ? किसकी लगी है नज़र इसको ?



सवाल कई है ?जवाब तो बहरहाल किसी के पास नहीं है |
प्रशासन देर से हरकत में आई ? देर आई पर दुरुस्त आई?
आमतौर पर शान्त रहने वाले शहर में इस तरह बवाल मचेगा ये सरकारी तंत्र शायद समझ नही पाए|स्थिति की गंभीरता समझने में प्रशासन को समय लगा|बात बहत जल्दी हाथ के बाहर हो गयी थी|
लेकिन उसके बाद प्रशासन का कार्य कबीले तारीफ रहा है| हरकत में आने के बाद प्रशासन ने कोई कमी नही रखी और किसी भी हालात से निपटने की तैयारी कर रखी थी|

जिले के आला अधिकारियो ने तुरंत ज़रूरी कदम उठाये और हालत को और बिगड़ने से रोका|
अर्धसैनिक बल की कंपनी बुलानी पड़ी। स्थिति की गंभीरता को देख मुख्यालय स्तर से आपदा प्रबंधन विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत एवं एडीजी गुप्तेश्वर पांडेय को हेलीकॉप्टर से कटिहर भेजा गया। 


कहाँ हुई चूक ?

मारवाड़ी पाठशाला के समीप स्थित एक धार्मिक स्थल के पास पहले भी दो पक्षों के बीच तनाव की घटना हो चुकी है।   मोहर्रम जुलूस को लेकर उक्त स्थल पर पर्याप्त सुरक्षा व्यवस्था नहीं की गई थी। 
मंगलवार की शाम घटना के विरोध में दौलतराम चौक पर जमा भीड़ को नियंत्रित करने को लेकर भी त्वरित कार्रवाई नहीं की गई|





कुछ मुट्ठी भर बदमाश प्रवृति के लोग अशांति फैलाते है| उसके बाद अफवाह फैलाकर बंकि लोगो को भड़काते है|बात किसी समुदाय की नहीं है ,सिर्फ कुछ लोगो की है जो अपने राजनितिक लाभ के लिए छोटी बातों को बड़ा बनाकर , लोगो की धार्मिक भावना का फायदा उठाते है|


बुधवार की शाम से स्थिति सुधारनी शुरू हुई |कटिहार की जनता ने एक बार फिर समझदारी का परिचय दिया है| जहाँ एक तरफ कुछ लोग माहौल बिगाड़ने में लगे थे , वही आम लोगो ने आपसी सौहाद्र बनाये रखने के लिए काफी प्रयास किये|आपसी भाई चारा बनाये रखने के दृढसंकल्प ने कटिहार को एक बड़ी विपदा से बचा लिया|







©www.katiharmirror.com

एक टिप्पणी भेजें

Featured Post

सरकारी डोंगल की कहानी- पास्पोर्ट की ज़ुबानी

कटिहार:|कुमार नीरज: अगर आप विदेश दौरा करने को सोच रहे है तो होशियार हो जाइये  | सरकार लाख दावा करले डिजिटल इंडिया साइनिंग इंडिया की लेक...