Friday, June 02, 2017

Bihar : क्यों लचर है बिहार की शिक्षा व्यवस्था

बिहार की शिक्षा व्यवस्था पर प्रश्नचिन्ह लगने लगा है|२०१७ के आंकड़ो की वजह से लग रहा है की शिक्षा व्यवस्था चरमराई हुई है|पर सच्चाई कुछ और ही लग रही है| ये लक्षण हैं शिक्षा व्यवस्था में आगे होने वाले सुधार  के|पिछले साल जो भ्रष्टाचार के मामले आये थे वो आज तक सोशल मीडिया में चुटकुले बन कर घूम रहे हैं|रूबी राय बिहार टॉपर २०१६ के जोक्स तो इन्टनेट पर वायरल है|

शायद यही वजह है की इस साल ऐसा लगता है की इस साल भ्रस्टाचार कम हुए है|इसी वजह से परिणाम इतने प्रतिकूल दिख रहे हैं|पर शायद यही परिणाम आइना है बिहार की शिक्षा व्यवस्था का| आज तक जो झूठ में लिपटे परिणाम हमारे मन को बहलाए रखते थे, सच्चाई देख कर वो मन विकल हो गया है|

बिहार बोर्ड की परीक्षा के बारे में कौन नही जनता| सारे न्यूज़ चैनल बिहार में परीक्षा में नक़ल करने के नायब तरीको को सालो से दिखाती रही है| हम बिहारी भी बड़े चाव से ये समाचार देखकर मंद मंद मुस्काते हैं|हमें कुछ अजीब नहीं लगता | क्यूंकि हम तो बरसो से देखते आ रहे है की जब बच्चो की परीक्षा होती है है तो माँ बाप,रिश्तेदार सब लग जाते है तैयारी में|

बच्चो को कैसे नक़ल कराइ जाये इसकी बाकायदा रणनीति बनायीं जाती है| नक़ल नहीं करने देने पर हम आन्दोलन करते है| क्यूंकि नक़ल करना तो हमारा हक़ है|

और हक़ हो भी क्यों नहीं| स्कूल और कॉलेज में पढाई होती नहीं है|ऐसे में विद्यार्थी क्या करेगा|नक़ल करना उसकी मजबूरी है|परीक्षा के दिन सर पर होते हैं और सिलेबस तक मुहैया नही होता विद्यार्थियों को|

शिक्षक बेचारा क्या करे | बहुत से नए लोगो को शिक्षक बनने का लाइसेंस बिना किसी योग्यता के मिल गया है| पुराने शिक्षक अब हार मान चुके है |व्यवस्था कुछ ऐसी है की पढना पढाना क्या होता है अब भूल चुके है|खुद परीक्षा देने जाये ये शिक्षक तो परीक्षा कक्ष में सर खुजलाने के अलावा शायद ही कुछ कर पाए| इनके हाथो में बिहार के विद्यार्थिओं का भविष्य कितना सुरक्षित है ये बात वो खुद भी जानते है| शायद अपने बच्चो को किसी और शिक्षक के पास भेजते हो पढने को |

सरकार को कुछ कदम लेने की आवशयकता है| पहले सारे शिक्षको का एक बार फिर से मूल्याङ्कन होना चाहिए|उसके बाद पढाई से सम्बंधित नियमो को कड़ाई से लागू करना चाहिए|

और जनता को ठान लेना चाहिए ---बस अब और नहीं| जिस राज्य से आज भी सबसे ज्यादा आईएएस निकलते है-उस राज्य को अपने गौरव को संभालना चाहिए|







4 comments:

  1. kuch nhi ho sakta hai. aisa hi rahega sab

    ReplyDelete
  2. बिहार में बहार है। नीतीसे कुमार है

    ReplyDelete
  3. ऐसे शिक्षक को भगाओ

    ReplyDelete
  4. katihar me parhai likhai thik hai. bihar me to bekar hai

    ReplyDelete

आप के विचार ? कुछ कहना चाहते है तो ज़रूर लिखे

Popular News in Katihar

Contributors